Zindagi Fellowship

Developing the next generation of Digital Ambedkarites.  

Welcome to Project Mukti’s Zindagi Fellowship!

The Zindagi fellowship is a fellowship designed to create the next generation of Digital Ambedkarites.

The time has come for Dalit Bahujan and Adivasi women, gender non-conforming, and trans folks to take the lead in ending digital caste apartheid. The fellowship aims to help emerging digital Ambedkarite femmes to cross leadership, language, and technical divides so that together we can innovate new solutions by and for our community.
 
Our residential fellowship, based out of our office in New Delhi, will provide an intensive leadership program that will enable fellows to identify their obstacles and to deepen their political understanding while building operational skills, communication savvy and technological literacy.

The ideal candidate is a Dalit, Bahujan, or Adivasi cis or trans woman who is interested in growing as a Dalit Bahujan Adivasi leader. This can include a student, community organizer, or a human rights defender. The fellow can currently be based in an organization or be working on building their own project. However, only one applicant will be accepted from a particular organization or project.

The fellowship will last for three months during which accommodation and meals will be provided by Project Mukti in their New Delhi office. The fellow will also receive a monthly living stipend of Rs. 8,000. The fellow is required to remain in Delhi for the duration of the fellowship, unl ess in case of emergency.

प्रोजेक्ट मुक्ति की जिंदगी फैलोशिप में आपका स्वागत है।

यह फैलोशिप डिजिटल अम्बेडकरवादियों तथा उनकी आने वाली पीढ़ियों को आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक तथा अन्य विषयों में समर्थ बनाने में सहायक होगी|

यह समय उन दलित बहुजन, आदिवासी, महिला, जेंडर नॉन कांफोर्मिंग और ट्रांस जेंडर का है जो, डिजिटल जातिवाद को ख़त्म करने में अग्रणी है। यह फैलोशिप उभरती हुई डिजिटल अम्बेडकरवादी महिलाओं को नेतृत्व, भाषा और तकनीकी विभाजन पार करने में मदद करेगी| इससे हम अपने समुदाय के साथ, समुदाय के लिए नए साधनों को स्थापित कर पाएंगे।

दलित, बहुजन, आदिवासी महिला या ट्रांस महिला जो एक दलित बहुजन आदिवासी नेता के रूप में बढ़ने में रूचि रखती हों वह ज़िन्दगी फैलोशिप के लिए उम्मीदवार बन सकती हैं। इसमें छात्र या सामुदायिक आयोजक या मानवाधिकार के रक्षक शामिल हो सकते हैं। यह उम्मीदवार वर्तमान में किसी एक संस्था के साथ जुड़े हुए हों या अपनी परियोजना की ओर काम कर रहे हों। एक ही आवेदक किसी विशेष संगठन या परियोजना से स्वीकार किया जाएगा।

फैलोशिप तीन महीने तक चलेगी जिसके दौरान प्रोजेक्ट मुक्ति द्वारा उनके नई दिल्ली कार्यालय में रेसिडेंट्स के लिए आवास और भोजन की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही रेसिडेंट्स को मासिक जीवन व्यय, ८००० रूपये, भी दिए जाएंगे| आपातकालीन परिस्थियों को छोड़कर, सभी रेसिडेंट्स को इन तीन महीने की फैलोशिप के दौरान नई दिल्ली में उपस्थित रहना आवश्यक है।

FAQ
zindagi.jpg

Thank you for your interest in Zindagi fellowship. We have closed the application process for the year 2018. Visit us again for more updates on our next fellowship.